हॉलीवुड भी उठाता है बॉलीवुड फिल्मों से कहानियां, ये फिल्में हैं सबूत

हॉलीवुड भी उठाता है बॉलीवुड फिल्मों से कहानियां, ये फिल्में हैं सबूत

अक्सर बॉलीवुड पर हॉलीवुड या दूसरी इंडस्ट्री से मूवी चुराने के आरोप लगते रहते है. लेकिन ऐसा नहीं है, बल्कि हॉलीवुड जैसी बड़ी इंडस्ट्री ने भी बॉलीवुड की कई फिल्मों की कहानीयां इस्तेमाल की है. आइये जानते है उन फिल्मों के बारे जिन्हें बॉलीवुड फिल्मों के आधार पर बनाया गया है….

1. अ कॉमन मैन 2013 (A Common Man)

15 मार्च 2013 को रिलीज हुई बेन किंग्सले की यह फ़िल्म अनुपम खेर की फ़िल्म ‘अ वेडनेसडे’ से प्रेरित थी। यह एक थ्रिलर फिल्म थी जिसमें कई मजबूत प्लॉट्स भी थे। नीरज पांडे की इस फ़िल्म को कोई भी प्रोड्यूस नही करना चाहता था लेकिन उन्होंने हार नही मानी और इस बेहतरीन फ़िल्म को पर्दे पर उतरकर ही दम लिया।

नीरज की फ़िल्म में नसीर साहब और अनुपम खेर ने बेहतरीन एक्टिंग की थी वहीं इस विदेशी फ़िल्म भी कलाकरों ने बेजोड़ अभिनय किया और इसे कई पुरस्कार भी हासिल हुए।

2. डिलीवरी मैन 2013 (Delivery Man)

22 नवंबर 2013 को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शित हुई यह फ़िल्म आयुष्मान खुराना की पहली फ़िल्म ‘विक्की डोनर’ से प्रेरित थी। फ़िल्म की कहानी एक ऐसे युवा की होती है जो स्पर्म डोनेशन करना शुरू करता है। स्पर्म डोनेशन के लिए उसे एक क्लीनिक का डॉक्टर प्रोत्साहित करता है। शूजित सरकार की विक्की डोनर को एक्शन स्टार जॉन अब्राहम ने प्रोड्यूस किया था। जिस कहानी को लोगों ने पसंद किया, उस पर तो रीमेक बननी ही थी। वही काम हॉलीवुड वालों ने किया।

3. विन अ डेट विथ टैड हैमिल्टन 2004 (Win a date with Tad Hamilton)

यह फ़िल्म आमिर खान की उत्तम कृति रंगीला से काफी हद तक प्रभावित थी। इसकी कहानी रंगीला की कहानी से मिलती-जुलती थी। दोनों में एक ऐसे लड़के की कहानी है जो जिस लड़की से प्यार का इज़हार करना चाहता है, वह लड़की फ़िल्म इंडस्ट्री में जाना चाहती है और सुपरस्टार के साथ फिल्में करना चाहती है। रंगीला तो कल्ट क्लासिक का दर्जा हासिल कर चुकी है। रंगीला जैसी सुपरहिट फिल्म उसके निर्देशक रामगोपाल वर्मा फिर कभी नही दे पाए। इस फ़िल्म के लिए टपोरी भाषा सीखने के लिए आमिर खान ने कई दिनों तक मुम्बई की सड़कों में खुद पर काम किया और नतीजा लाजवाब रहा।

4. फोर्टी शेड्स ऑफ ब्लू 2005 (Forty Shades Of Blue)

यह हॉलीवुड फिल्म सत्यजीत रे की चारुलता की ऑफिसियल रिमेक थी। यह फ़िल्म लव ट्राएंगल पर आधारित थी जिसे कंटेम्पररी मैनर में परोसा गया था। फ़िल्म के मेकर्स ने इस बात का खुलासा खुद किया था कि वे सत्यजीत रे की इस रचना को अपने तरीके से प्रस्तुत करना चाहते।

उन्हें इसकी कहानी में कुछ खास लगता था इसलिए उन्होंने चारुलता को ऑफिसियल रीमेक किया। सत्यजीत भारतीय कलात्मक सिनेमा के सबसे महान फिल्मकार रहे।

5. पर्ल हार्बर 2001 (Pearl Harbor)

फ़िल्म के निर्देशक माइकल बे (Michael Bay) पर्ल हार्बर जैसी सच्ची घटना पर फ़िल्म बनाना चाहते थे लेकिन शुरुआत में वे कुछ प्लाट तौयार करना चाहते थे। कहा जाता है कि इसकी कहानी राज कपूर की महानतम कृति संगम से प्रेरित थी। संगम की तरह इसमें भी दो दोस्त एक ही लड़की से प्रेम कर बैठते हैं। संगम भी सुपरहिट थी और पर्ल हार्बर भी। फ़िल्म को लेकर आलोचना हुई कि इसमें सच्ची घटना से ज्यादा प्रेम पर बात हो रही थी।

इसी तरह की कई हॉलीवुड फिल्मों की कहानियों को हिंदी फिल्मों से उठने की बात सामने आती रही। सलमान की मैने प्यार क्यों किया को हॉलीवुड में जस्ट गो विथ इट (2011) नाम से बनाया गया। वहीं खबरें आई कि 2005 में आई हिच फ़िल्म एक हिंदी फिल्म छोटी सी बात का रीमेक थी। जब वी मेट से प्रेरित होकर लीप ईयर 2010 में बनाई गई थी।

Also Read

जानिए क्या है इंडिया के आयरनमैन मिलिंद सोमन की डाइट….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *